Incredible Bihar, Bihar News, Bihar Tourism, Bihar Politics, Hamara Bihar, Special in Bihar

Latest Post

Sayed Shahabuddin

पटना.12 साल से जेल में बंद पूर्व सांसद शहाबुद्दीन की कुछ फोटोज 7 मार्च को सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी। फोटोज में उसके साथ बिहार सरकार के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री अब्दुल गफूर और रघुनाथपुर के राजद विधायक हरिश्ंकर यादव भी थे। तीनों कुर्सी पर बैठे थे और सामने टेबल पर नाश्ता-पानी रखा था। पता चला था कि तस्वीर सीवान जेल की है। जानिए, क्यों कहा जा रहा शहाबुद्दीन रिटर्न्स...
- जेल में शहाबुद्दीन से मिलने गए बिहार सरकार के मंत्री और विधायक वाली फोटो में कई बातें जेल मैनुअल के विपरीत थी।
- जाहिर है, नेताओं का मिलने जेल के किसी अधिकारी के चैंबर में हुआ। वहां नाश्ता-पानी आया। कैमरे का इस्तेमाल किया गया।
- फोटो वायरल हुआ तो जांच की औपचारिकता शुरू हुई। विधायक हरिशंकर यादव बोले- हम दुख-सुख बतियाने गए थे। वहीं, मंत्री ने चुप्पी साध ली।
- राजनीतिक हलकों में चर्चा चली, राजद की सरकार आ गई है। ‘साहेब’ की तो निकल पड़ी।
‘साहेब’ की बजाय ‘शहाबुद्दीन’ पुकारना मानी जाती थी गुनाह
- मो.शहाबुद्दीन, साहेब और एमपी साहब। तीन अलग-अलग नाम लेकिन शख्सियत एक। हां, किरदार अलग-अलग रहे हैं।
- कभी डॉन, कभी जनप्रतिनिधि और तो कभी समानांतर सत्ता की हनक और रसूख रखने वाला शख्स।
- साल 1990 के बाद का एक वह भी दौर था जब सीवान में रहने वाला कोई आमो-खास शायद ही ‘साहेब’ की बजाय ‘शहाबुद्दीन’ नाम लेकर पुकार ले।
- इसे गुनाह माना जाता था और सजा- जो साहेब मुकर्रर कर दें। खौफ और साहेब एक दूसरे के पर्याय बन बैठे थे।
- सामाजिक न्याय की सरकार के साथ शहाबुद्दीन का उत्थान हुआ। सामाजिक न्याय की सरकार गई तो शहाबुद्दीन का पतन हुआ। जेल में डाले गए।
- अब जबकि फिर से सामाजिक न्याय वाली पार्टी सरकार की बड़ी भागीदार है, शहाबुद्दीन का नाम सुर्खियों में है।
Source: Bhaskar

Doctor in Bihar

पटना.अपराधियों ने पटना के एक नामी डॉक्टर से 50 लाख रुपए की रंगदारी मांगी है। धमकी भरी चिठ्ठी के साथ अपराधियों ने एक जिंदा कारतूस भी भेजा है। रंगदारी की रकम नहीं भेजने पर बाकी के बचे पांच गोलियां मारने की बात भी चिठ्ठी में कही गई है। क्या है पूरा मामला...


- डॉक्टर एके सिंह का पटना शहर में कई स्थानों पर डायग्रोस्टिक सेंटर है।
- डॉक्टर सिंह की ओर से इस मामले में पत्रकार नगर थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई है।
- पुलिस ने धमकी भरे चिठ्ठी मिलने के बाद डॉक्टर की सुरक्षा बढ़ा दी है।
अपराधियों ने मांगे 50 लाख की रंगदारी
- अपराधियों की ओर से भेजी गई चिठ्ठी में 50 लाख रुपए की रंगदारी मांगी गई है।
- रंगदारी के लिए भेजे गए पत्र के साथ एक जिंदा कारतूस भी भेजा गया है।
- पत्र में कहा गया है कि रकम नहीं देने पर बाकी की पांच गोली आपके शरीर में उतार दिया जाएगा।
- बिहार में रंगदारी मांगने का इस तरह का पहला मामला है।
- जिसमें रजिस्टर्ड पोस्ट के साथ जिंदा कारतूस भी भेजा गया है।
- 5 दिन पहले आए इस धमकी भरे पत्र के बाद से पुलिस हरकत में आ गई है।
.
पुलिस के बड़े अधिकारी कर रहे हैं केस की छानबीन
- आनन-फानन में डॉक्टर को सुरक्षा मुहैया कराई गई है।
- पुलिस पिछले तीन दिनों से चुपचाप इस मामले की छानबीन में जुटी है।
- लेकिन अभी तक इस मामले में किसी की भी गिरफ्तारी नहीं हुई है।
- वरीय अधिकारी इस मामले की छानबीन में जुटे हैं।
Source: Bhaskar

RJD MP Taslimuddin

पटना. अररिया के आरजेडी सांसद मो. तस्लीमुद्दीन को पार्टी ने रविवार को शो कॉज नोटिस जारी किया है। पार्टी का मानना है कि जो तस्लीमुद्दीन ने नीतीश कुमार और बिहार सरकार को लेकर जो बयान दिए हैं। उससे भाजपा को फायदा हुआ है। तेजस्वी ने कहा कि पार्टी ने लिया है संज्ञान...
- डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने कहा, “तस्लीमुद्दीन और रघुवंश जी के बयान हमने भी टीवी पर देखे हैं। दोनों बड़े नेता हैं। उन्हें ऐसे बयान नहीं देने चाहिए।”
- “ये लोग मेरे से उम्र से काफी बड़े और अनुभवी नेता हैं। ऐसे बयान देने से बचना चाहिए।”
तस्लीमुद्दीन ने दी थी आंदोलन की धमकी

- तस्लीमुद्दीन ने शनिवार को कहा था, “नीतीश ठीक से काम नहीं कर रहे हैं। लॉ एंड ऑर्डर उनकी जिम्मेदारी है। सुधार नहीं हुआ, तो आंदोलन करेंगे।”
- “नीतीश देश का नेता बनना चाहते हैं, तो राज्य की सत्ता छोड़ दें। यही हालात रहे तो लालू जी को भी मेरे साथ आना होगा। गठबंधन पर फैसला करना पड़ेगा। नीतीश को सीएम की कुर्सी से हटा देना चाहिए।”
- तस्लीमुद्दीन के बयानों पर जदयू ने एतराज जताया था।
Source: Bhaskar

Murder in Bihar

पटना. बिहार के जमुई जिले के गादी गांव में शनिवार की रात नक्सलियों ने मुखबिरी के आरोप में तीन लोगों की गला रेतकर हत्या कर दी है। मरने वालों में दो झारखंड के निवासी भी थे। एक व्यक्ति जमुई जिले का ही रहने वाला है। नक्सलियों ने छोड़ा पर्चा...
- नक्सलियों ने घटनास्थल पर पर्चा भी छोड़ा है। जिसमें लिखा है कि मुखबिरी करने वालों की यही सजा है।
- नक्सलियों ने आरोप लगाया है कि चिराग दा की हत्या में पुलिस मुखबिरी इन लोगों ने की थी।
- शनिवार की रात में 24-25 की संख्या में नक्सली गांव में पहुंचे और टीपन मंडल को उठा ले गये।
- झारखंड के चौकी गांव के मुकेश राय और गरंगा गांव से योगेंद्र तूरी को भी अपने साथ ले गये।
- नक्सलियों ने तीनों की गादी गांव के पास गला रेतकर हत्या कर दी। उसके बाद लाल सलाम के नारा लगाते चले गये।
- फिलहाल पुलिस ने तीनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।
- घटना के बाद क्षेत्र में दहशत का माहौल बना हुआ है।
Source: Bhaskar

Crime in Patna

पटना. अपराधियों ने शुक्रवार की शाम पिस्टल की नोक पर दो लीटर दूध छीन लिए। बताते चलें कि 2001 में भी अपराधियों ने जक्कनपुर थाना के पोस्टल पार्क से पिस्टल दिखाकर चार रसगुल्ला छीन लिए थे।क्या है मामला...
- दो दिन पहले अज्ञात अपराधियों ने हरेंद्र राय को पिस्टल दिखाकर दो लीटर दूध छीन लिए।
- हरेंद्र राय अपने ग्राहकों के घर से दूध पहुंचाकर लौट रहे थे।
- वे कंकड़बाग स्थित पूर्व सीएम राम सुंदर दास के घर के पास पहुंचे थे।
- बिजली गुल रहने के कारण पूरा क्षेत्र अंधेरे में डूबा था।
- पीछे से मोटरसाइकिल सवार दो युवक ने हरेंद्र की साइकिल रुकवाकर पहले दूध मांगा।
- हरेंद्र ने अपनी साइकिल रोकर कर दूध देने के लिए अपना केन खोलता।
- इससे पहले ही अपराधियों ने हरेंद्र को पिस्टल दिखाकर उसके केन और उसमें रखे दो लीटर दूध लेकर फरार हो गया।
- हरेंद्र राय अब इस सकते हैं कि इस मामले की शिकायत कहां करें।
2001 में भी पिस्टल दिखाकर छीन लिया था रसगुल्ला
- अपराधियों ने 2001 में भी पिस्टल दिखाकर चार रसगुल्ला छीन लिए थे।
- युवक अपने बच्चों के लिए रसगुल्ला खरीदकर ले जा रहा था।
- वो जक्कनपुर थाने के पोस्टल पार्क में पहुंचा ही था कि अज्ञात अपराधियों ने युवक को रोका।
- पहले अपराधियों ने युवक से पैसा मांगा था।
- लेकिन, युवक के पास पैसा नहीं रहने के कारण अपराधियों ने उसके रसगुल्ला को ही छीनकर फरार हो गए थे।
Source: Bhaskar

Bindi Yadav

पटना: गया रोड रेज मामले में सजा काट रहे बिंदी यादव की शुक्रवार को कोर्ट में पेशी हुई। पेशी के समय उनके जेब में हजार रुपए के कई नोट कैमरा में कैद हो गए। जेल में बंद कैदी के पास इतना पैसा कहां से आए, ये आम लोगों के बीच चर्चा बना हुआ है। बताते चलें कि कुख्यात बिंदी यादव रोड रेज मामले में अपने हत्यारे बेटे को भगाने में मदद करने के आरोप में फिलहाल जेल में बंद हैं।जेल में कैसे आ रहे बिंदी के पास पैसा...

- गया रोडरेज केस के मुख्य आरोपी रॉकी यादव का पिता बिंदी यादव इनदिनों इस केस में जेल की सजा काट रहा है।
- बिंदी यादव जेडीयू से निलंबित एमएलसी मनोरमा देवी का पति है।
-शुक्रवार को पेशी के लिए कोर्ट आए बिंदी यादव के जेब में 1000- 1000 रुपए देखकर लोग दंग रह गए।
- जेल की सजा भुगत रहे बिंदी यादव पर मर्डर और किडनैपिंग के कई केस दर्ज हैं।
- बिंदी यादव पर नक्सलियों को हथियारों की सप्लाई करने का भी आरोप है।
- बिंदी इस मामले में लंबे वक्त तक देशद्रोह के आरोप में जेल में भी बंद रहा था।
इंट्री माफिया के नाम से जाना जाता है

- बिंदी यादव को गया में इंट्री माफिया के नाम से जाना जाता है।
- क्योंकि बिहार-झारखंड की सीमा से गुजरने वाले ट्रकों से अवैध वसूली करने का आरोप है।
- बिंदी ने साइकिल की चोरी कर अपराध की दुनिया में अपना कदम रखा था।
- इसके बाद इसके नाम पर हत्या, रंगदारी और अपहरण के कई मामले दर्ज हुए।
-1991 -92 में यह अपराध की दुनिया में अपना रसूक बना लिया।
- बिंदी ने अपने मित्र बच्चु यादव से मिलकर गया शहर में अपना आतंक फैला लिया।
-बिहार के कुख्यात राजन कुर्मी की हत्या कर बिन्दी यादव गया का सरताज बन गया।
- इसके बाद हत्या लूट और अपहरण के धंधे में इसने खूब तहलका मचाया।
- बबली जैन अपहरण कांड में भी इसका नाम खूब उछला था।
- आज भी गया शहर में दर्जनों मकान पर इस गिरोह ने कब्जा जमाया हुआ है।
- इनके भय से कई बड़े-बड़े बिजनेसमैन शहर छोड़ने को मजबूर हो गए।
सधारण परिवार से एक हजार करोड़ रुपए का मालिक बन गया

- बिंदी यादव का जन्म अति सधारण परिवार में हुआ था।
- बिंदी स्वंय इस बात को कहता है कि कई दिन हम लोग बिना खाये सो जाया करते थे।
- लेकिन अब बिंदी के पास एक हजार से ज्यादा की संपत्ति है।
- स्थानीय लोग कहते हैं कि उसके इस सफर में आतंक की वही कहानी है, जिसकी बदौलत आज वो अरबपति बना हुआ है।
Source: Bhaskar

Incredible Bihar

(c) All right reserved by Incredible Bihar

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget